अक्टूबर-दिसंबर 1911 के दौरान, पेरिस में उनके प्रथम प्रवास की अवधि में अब्दुल-बहा द्वारा दिए गए व्याख्यानों का एक संकलन। इसमें 1912-13 में उनके इंगलैंड प्रवास के दौरान दिए गए तीन व्याख्यान और 1913 में प्रकट की गई एक पाती भी शामिल है।