अनिवार्य प्रार्थना और उपवास का महत्व